भारत के सिंह ने लंदन में किया अंग्रेजी लकड़बग्घे का शिकार

महा महारथी शेरसिंह (उधम सिंह) ने जलियांवाला बाग हत्याकांड के 21 वर्ष बाद मुख्य अपराधी को लंदन में गोली से उड़ा दिया” – 13 मार्च, 1940 का दिन था। लंदन के कैक्‍सटन हॉल में ईस्‍ट इंडियन एसोसिएशन की मीटिंग थी।

ब्रिटिश पंजाब में लेफ्टिनेंट गवर्नर रह चुका माइकल ओ’ड्वायर इसमें शामिल था और वही निशाना था, क्‍योंकि उसके पंजाब की कमान संभाले रहने के दौरान ही जलियांवाला बाग नरसंहार हुआ था।

ओ’ड्वायर ने जनरल डायर के निहत्‍थे भारतीयों पर गोली चलाने के हुक्‍म का समर्थन किया था वरन् उक्त आदेश भी उसी का था। ओवरकोट और टोपी पहने उधम सिंह ने कई गोलियां चलाई।

ओ’ड्वायर की मौत हो गई और भारत के सचिव, जेटलैंड, बॉम्‍बे के पूर्व गवर्नर लैमिंग्‍टन और पंजाब के पूर्व गवर्नर लुइस डेन घायल हो गए। उधम सिंह को मौके पर ही पकड़ लिया गया। अगले दिन, 14 मार्च के डेली मिरर में एक हेडलाइन छपी, ‘हत्‍यारे ने मंत्री को गोली मारी, नाइट की हत्‍‍‍‍या’।
अंग्रेजों ने उन्‍हें मोहम्‍मद सिंह आजाद समझा

14 मार्च, 1940 को ही ‘द हल डेली मेल’ में खबर छपी, “मोहम्‍मद सिंह आजाद…40 साल का एक भारतीय आज लंदन के बो स्‍ट्रीट में नजर आया। उस पर सर माइकल ओ’ड्वायर की हत्‍या का आरोप है… जैसे ही वह बिल्डिंग में घुसा, आजाद मुस्‍कुरा रहा था और अपने साथ के अधिकारियों से बात कर रहा था।”

प्रारंभ में उधम सिंह के नाम और धर्म को लेकर अंग्रेज भ्रमित थे।मोहम्‍मद सिंह आजाद के नाम मुकदमा लिख दिया गया था, बाद में पता चला कि पासपोर्ट में उनका नाम उधम सिंह था।

मर्डर ट्रायल केवल दो दिन चला, 4 और 5 जून को। जब उधम सिंह को अदालत में लाया गया तो उन्‍होंने खुद को ‘निर्दोष’ कहा। 5 जून को अभियोजन पक्ष ने उधम सिंह से पूछताछ की और फिर ज्‍यूरी ने एकमत से सिंह को हत्‍या का दोषी ठहरा दिया।

24 जून को सिंह की तरफ से एक अपील फाइल की गई जिसमें ज्‍यूरी के सामने अपर्याप्‍त डिफेंस की बात कही गई थी, लेकिन इसे खारिज कर दिया गया। सुनवाई के समय महा महारथी उधम सिंह ने क्या कहा था उसका संक्षिप्त ब्यौरा इस प्रकार है।

Shorthand notes of the Statement made by Udham Singh after the Judge had asked him if he had anything to say as to why sentence should not be passed upon him according to Law.
Facing the Judge, he exclaimed, ‘I say down with British Imperialism. You say India do not have peace. We have only slavery. Generations of so called civilization has brought for us everything filthy and degenerating known to the human race. All you have to do is read your own history. If you have any human decency about you, you should die with shame. The brutality and bloodthirsty way in which the so called intellectuals who call themselves rulers of civilization in the world are of bastard blood…’
MR. JUSTICE ATKINSON: I am not going to listen to a political speech. If you have anything relevant to say about this case say it.
UDHAM SINGH: I have to say this. I wanted to protest.
The accused brandished the sheaf of papers from which he had been reading.
THE JUDGE: Is it in English?
UDHAM SINGH: You can understand what I am reading now.
THE JUDGE: I will understand much more if you give it to me to read.
UDHAM SINGH: I want the jury, I want the whole lot to hear it.
Mr. G.B. McClure (Prosecuting) reminded the Judge that under Section 6 of the Emergency Powers Act he could direct that Udham Singh’s speech be not reported or that it could be heard in camera.
THE JUDGE (to the accused): You may take it that nothing will be published of what you say. You must speak to the point. Now go on
UDHAM SINGH: I am protesting. This is what I mean. I am quite innocent about that address. The jury were misled about that address. I am going to read this now.
THE JUDGE: Well, go on.
While the accused was perusing the papers, the Judge reminded him ‘You are only to say why sentence should not be passed according to law.’
UDHAM SINGH (shouting): ‘I do not care about sentence of death. It means nothing at all. I do not care about dying or anything. I do not worry about it at all. I am dying for a purpose.’ Thumping the rail of the dock, he exclaimed, ‘We are suffering from the British Empire.’ Udham Singh continued more quietly. ‘I am not afraid to die. I am proud to die, to have to free my native land and I hope that when I am gone, I hope that in my place will come thousands of my countrymen to drive you dirty dogs out; to free my country.’
‘I am standing before an English jury. I am in an English court. You people go to India and when you come back you are given a prize and put in the House of Commons. We come to England and we are sentenced to death.’
‘I never meant anything; but I will take it. I do not care anything about it, but when you dirty dogs come to India there comes a time when you will be cleaned out of India. All your British Imperialism will be smashed.’
‘Machine guns on the streets of India mow down thousands of poor women and children wherever your so-called flag of democracy and Christianity flies.’
‘Your conduct, your conduct – I am talking about the British government. I have nothing against the English people at all. I have more English friends living in England than I have in India. I have great sympathy with the workers of England. I am against the Imperialist Government.’
‘You people are suffering – workers. Everyone are suffering through these dirty dogs; these mad beasts. India is only slavery. Killing, mutilating and destroying – British Imperialism. People do not read about it in the papers. We know what is going on in India.’
MR. JUSTICE ATKINSON: I am not going to hear any more.
UDHAM SINGH: You do not want to listen to any more because you are tired of my speech, eh? I have a lot to say yet.
THE JUDGE: I am not going to hear any more of that statement.
UDHAM SINGH: You ask me what I have to say. I am saying it. Because you people are dirty. You do not want to hear from us what you are doing in India.
Thrusting his glasses back into his pocket, Udham Singh exclaimed three words in Hindustani and then shouted, Down with British Imperialism! Down with British dirty dogs.

महा महारथी उधम सिंह को 31 जुलाई, 1940 को लंदन के पेंटनविले जेल में फांसी दे दी गई परंतु लंदन में जलियांवाला बाग के बलिदानियों का बदला लेने गये ऊधम सिंह ने आखिरकार माईकल ओ डायर का वध कर दिया।इस तरह भारत के सिंह ने लंदन में अंग्रेजी लकड़बग्घे का शिकार किया। लंदन में खींचे गए मूल चित्र संलग्न हैं।

इधर इस महान क्रांतिकारी के साथ भी तथाकथित परजीवी चुरकट इतिहासकारों और मार्क्सवादी इतिहासकारों ने घृणित अन्याय किया और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के राष्ट्रीय इतिहास में उचित स्थान नहीं दिया परंतु स्वाधीनता के अमृत महोत्सव पर हम लोग अखिल भारतीय इतिहास संकलन समिति के मूल उद्देश्य इतिहास के लेखन और पुनर्लेखन के आलोक में वास्तविक इतिहास को सभी के सामने लेकर आए हैं, कि भारतीय बुजदिल नहीं थे और इन बलिदानियों ने ही स्वाधीनता के पवित्र यज्ञ में सर्वाधिक पवित्र आहुतियां दी हैं।

आज भी सेना के जवानों के बलिदान होते हैं वे सभी इन्हीं बलिदानियों के पुनर्जन्म ही हैं। वस्तुतः उधम सिंह की त्याग,तपस्या और बलिदान को विस्तार से पाठ्यक्रमों में सम्मिलित किया जाना चाहिए ताकि वर्तमान पीढ़ी और भावी पीढ़ी में राष्ट्रवाद की भावना प्रबल हो और लक्ष्य की प्राप्ति के लिए धैर्य और प्रबंधन की सीख भी मिले।

लेख़क – डॉ. आनंद सिंह राणा
संपर्क – 7987102901

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here