Trending Now

“असंभव को संभव कर दिखाने के सामर्थ्य का नाम है महाबली हनुमान”

!!महाबली हनुमान जी का अवतरण जयंती नहीं प्राकट्य है!!

सर्वकालिक विविध साक्ष्यों और संदर्भों में महाकाल के 11 वें रुद्र अवतारों के रुप में महाबली हनुमान जी विश्व व्यापी हैं। बल और बुद्धि प्रबंधन के आदिगुरु हैं।विश्व में कंबोडिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया ,मलेशिया और लाओस में भगवान हनुमान की विधिवत रूप से लोग पूजा करते हैं।अमेरिका के डेलावेयर में स्थापित 25 फीट ऊंची हनुमान जी की प्रतिमा विश्व में आकर्षण का केंद्र है।

भारत में जिस प्रकार आदिशक्ति के विभिन्न स्वरुपों का सर्वव्यापीकरण हुआ है उसी प्रकार हनुमान जी का संकटमोचक देवता के रुप में लोकव्यापीकण है।हनुमान जी महाप्रबंधक और प्रबंधन के आदि गुरु हैं। वे अपने बल और बुद्धि के प्रबंधन की ऐंसी छवि प्रस्तुत करते हैं जिसे अपनाकर आप कभी असफल नहीं हो सकते हैं। असंभव शब्द उनके शब्द कोश में नहीं है इसलिए रामचरितमानस के किष्किंधाकांड में जामवंत हनुमान जी से कहते हैं कि “कवन सो काज कठिन जग माही, जो नहीं होई तात तुम्ह पाहीं। हनुमान जी का प्रबंधन कौशल अब पाठ्यक्रमों में भी आ रहा है।

प्रबंधन कौशल के रुप एक दृष्टांत उल्लेखनीय है। यद्यपि हनुमान जी शाश्वत एवं शारीरिक रूप से ब्रम्हचारी हैं परंतु उनके विवाह की कहानी उनके एक गूढ़ ज्ञान प्राप्त करने के महाप्रबंधन का हिस्सा है। जिसके लिए उन्होंने महातपस्वी और तेजस्वी सूर्य पुत्री सुवर्चला से विवाह के लिए उनको यह कहते हुए मनाया कि आपको भी पूर्ण ज्ञान तभी प्राप्त होगा जब आप विवाह करेंगी उधर सूर्य देवता ने भी हरी झंडी दे दी। ज्ञान प्राप्ति के बाद देवी सुवर्चला पुनः तपस्या में लीन हो गयीं और हनुमान जी राम की सेवा में आ गये। इसलिए हनुमान सदा शारीरिक रूप से ब्रम्हचारी ही हैं। ये विश्व का सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन कहा जा सकता है। लंका में माता सीता का पता लगाकर उनको संबल देने उपरांत शत्रु के पक्ष को अपना पराक्रम दिखाकर लंका को जलाकर राख करने का उपक्रम हनुमान जी को एक कुशल दूत ही नहीं वरन् अपने स्वामी भगवान् श्रीराम की शक्ति और सामर्थ्य बताने अद्भुत एवं अद्वितीय उपाख्यान है।

त्रेतायुग का अंतिम चरण में चैत्र पूर्णिमा, चित्रा नक्षत्र, मेष लग्न में हनुमान जी का अवतरण हुआ। पिताश्री केसरी और माता अंजना, ऋषि द्वारा शापित अप्सरा फिर शाप मुक्ति की देवीय योजना के अंतर्गत अंजना जी की शिव की तपस्या के बाद अंशावतार के रूप में पुत्र रुप में आने का आशीर्वाद मिला था। तदुपरांत एक देवीय घटना हुई, जिसमें अग्नि देव द्वारा महाराज दशरथ की रानियों को संतानोत्पत्ति के लिए दी गई देवीय पायस उपयोग के बाद थोड़ी सी कटोरी में बची थी उस कटोरी को एक पक्षी ले उड़ा और तपस्या रत अंजनी के गोद में रख दिया जिसे अंजना ने प्रसाद समझ कर ग्रहण किया और गर्भवती हुईं और हनुमान जी का अवतरण हुआ। हनुमान जी के सर्वप्रमुख नाम बजरंगबली, अंजनी पुत्र, मारुति नंदन, महाबली, रामेष्ट, फाल्गुन सखा, पिंगाक्ष, अमित विक्रम, उदधिक्रमण, सीताशोकविनाशन, लक्ष्मणप्राणदाता, दशग्रीवदर्पहा आदि बहुत प्रचलित हैं।

ऐतिहासिक और पौराणिक आख्यानों में हनुमान जी प्रलय के प्रभाव से मुक्त हैं क्योंकि माता सीता ने हनुमान जी को अजर अमर होने का वरदान दिया है इसलिए वे चिरंजीवी हैं। अतः हनुमान जी के लिए जन्म अथवा जयंती जैंसे शब्दों का प्रयोग सर्वथा अनुचित है। अतः उनका अवतरण, प्राकट्योत्सव (प्रकटोत्सव, प्रगटोत्सव) है और यही शिरोधार्य होना तर्कसंगत एवं धर्मसम्मत है।

यद्किंचित यह भी कि अवतार, जन्म, जयंती, पुण्यतिथि को लेकर प्रकारांतर से विरोधाभास है, एतदर्थ उसका भी निराकरण आवश्यक है। वस्तुतः शिक्षा, संस्कार, जिज्ञासु प्रवृत्ति और वैज्ञानिक दृष्टि के कारण मनुष्य में अपने परिदृश्य के पुनरीक्षण की पुनर्जिज्ञासा होती ही रहती है। इससे लाभ यह होता है कि समय के साथ आ गई भ्रांतियों का समयानुकूल उच्छेदन होता रहता है। सोशल मीडिया के बढ़ते प्रयोग के कारण कुछ समय से देखने में आया है कि जन्मदिन , गोलोकगमन, जयंतियों आदि पर गंभीर विमर्श होने लगा है और यह मानव की उस परिष्कृत मनोवृत्ति का परिचायक है जो मानव से संबंधित घटनाओं, नामकरण, संबोधन आदि को गरिमामंडित करती है। जैसे व्यक्ति कैसा भी दुराचारी हो कोई उसे नर्कवासी नहीं कहता वरन् स्वर्गवासी ही कहता है। इस तथ्य को ध्यान में रखे बिना आज का चिंतन अपूर्ण रहेगा।
बात प्रारंभ करते हैं गीता से क्योंकि यह भारतीय न्याय व्यवस्था में शपथ के लिए विख्यात है। जब श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि सृष्टि के आरम्भ में यह उपदेश मैंने वैवस्वत सूर्य को दिया (गीता, 4/3) तो अर्जुन कहता है हे हरि! आपने तो वसुदेवपुत्र के रूप में अभी कुछ दिन पहले ही जन्म लिया है फिर यह कैसे संभव है? तब श्रीकृष्ण कहते हैं, प्रिय अर्जुन! मेरे और और तुम्हारे पहले ही कई जन्म हो चुके हैं (गीता, 4/5) जिन्हें मैं जानता हूँ ( परमात्मा होने से) परन्तु तू नहीं जानता (जीवात्मा होने से) अर्थात् , परमेश्वर की जानकारी में सब है, जीवात्मा की जानकारी में नहीं। यद्यपि तपस्या द्वारा सिद्ध पुरुषों को एक सीमा तक यह ज्ञान हो सकता है।
आगे चलकर कहा गया है (4/7-8) जब धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है… मैं स्वयं को सृजित करता हूँ अर्थात् प्रकट या अवतरित करता हूँ।

श्रीमद्भागवत में शौनक आदि ऋषि, इतिहासवेत्ता सूत जी से पूछते हैँ! क्या करने की इच्छा से श्रीकृष्ण अवतरित हुए? (भागवत, 1/1/12) और आप हमें उनके विभिन्न अवतारों और लीलाओं की कथा सुनायें ( भागवत, 1/1/17-18)। यहाँ पर चिंतन किया जाये तो बोध होता है कि अवतार शब्द का प्रयोग परमात्मा के धरा पर आगमन का द्योतक है। और जन्म शब्द जीवात्माओं के लिए अधिक युक्तिसंगत है यद्यपि पहले ही कह चुके हैं कि व्यक्ति के गौरव में वृद्धि का विचार करने के उद्देश्य से उसके लिए भी अवतरण जैसा शब्द प्रयोग करने की प्रवृत्ति बढ़ी है।
श्रीराम के रूप में परब्रह्म के आगमन के लिए इसीलिए रामचरितमानस में इसीलिए कहा गया है –

“भये प्रकट कृपाला दीनदयाला,
कौशल्या हितकारी।”

इसलिए देवात्माओं के धरा पर आगमन को प्रकटोत्सव, प्राकट्योत्सव, प्रकाशोत्सव, जैसे गरिमाबोधक शब्दों से इंगित किया जाता है।
इसी तरह जयंती शब्द का प्रयोग होता है, यहाँ यह ध्यान में रखना होगा कि साकार और निराकार दो दृष्टियाँ भारतीय परम्परा में रही हैं और वस्तुत: उनमें भेद भी नहीं है, परंतु मन में उनसे प्रसूत भावों के कारण व्याख्याओं में लोग भेद कर बैठते हैं।
किसी व्यक्ति के कर्म उसे महान् बनाते हैं, ऐसे महापुरुषों के सुयश अथवा कीर्तिपताका का स्मरण करने के लिए उनके जन्मदिन को जयंती शब्द के संबोधित करते हैं जो एक गौरवप्रदाता शब्द है।

उत्तररामचरित में भवभूति, शतकों में भर्तृहरि, शंकरदिग्विजय आदि संदर्भों में अवतार शब्द ईश्वर के धरा पर आगमन के लिए प्रयुक्त है। किसी व्यक्ति का देहावसान दिवस भी गरिमामय बन जाये इसलिए पखवाड़े के चांद्र दिवस की अवसान तिथि के साथ पुण्य लगाकर पुण्यतिथि के रूप में दिवंगत के कीर्ति को याद किया जाता है। वस्तुत: दिव्य आत्माओं की पुण्यतिथि न होकर “लीलासंवरण तिथि” या “लीलासंवरण दिवस”कहना अधिक उपयुक्त हो सकता है।
कुछ शब्द समय के साथ रूढ़ या बहुप्रचलित हो जाते हैं और प्रथा के रूप में प्रयोग किये जाने लगते हैं। निष्कर्षत: “प्राकट्य” शब्द ईश्वर की अपने कला-अंशों के साथ भूलोक में विभिन्न स्वरुपों में अवतरणिका का सूचक है।
कालयुक्त (पंचांग भेद -यद्यपि क्रोधी)नवसंवत्सर चैत्र प्रतिपदा तदनुसार 9 अप्रैल से प्रारंभ हो गया है और भारतीय वैदिक पंचांग की गणना के अनुसार 30 वर्षों बाद 5 राजयोग का अद्भुत संयोग बन गया है। ऐंसे में भारत के विभिन्न ज्योतिषाचार्य और भविष्यवक्ता सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं पर प्रकाश डाल रहे हैं, ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों में परस्पर 3 संबंध होते हैं जो क्रमशः युति संबंध, दृष्टि संबंध और राशि परिवर्तन संबंध हैं, उनका मानना है कि अशुभ घटनाएँ हो सकती हैं परंतु यह ध्यान रखें कि नवसंवत्सर के राजा मंगल हैं, तदनुसार उनके स्वामी हनुमान जी हैं और उनके मंत्री शनि हैं, तो मंगल के स्वामी हनुमान जी का शनि महाराज पर बड़ा उपकार है, क्योंकि हनुमान जी ने ही शनि महाराज को रावण से मुक्ति दिलाई थी, साथ ही एक बार शनि देव हनुमान जी से पराजय का स्वाद ले चुके हैं और शनि महाराज का उनको आशीर्वाद भी है कि शनिवार को हनुमान जी की पूजा और शनि देव को सरसों का तेल अर्पित करने से, शनि देव अनिष्ट नहीं करेंगे, इसलिए हनुमान जी की पूजा – अर्चना से सज्जनों के लिए नवसंवत्सर अतीव शुभकारी होगा और दुर्जनों के लिए अत्यंत कष्टकारी होगा।

!! जय श्री राम !!

लेखक – डॉ आनंद सिंह राणा