संघ की तैयारी देश व्यापी ‘‘कार्यकर्ता प्रशिक्षण’’कार्यक्रम

सम्भावित पीड़ितों के सहायतार्थः स्वयंसेवक ढाई लाख स्थानों पर जायेंगे

कोरोना की विश्व व्यापी व्याधि के मद्देनजर चिकित्सा विशेषज्ञों और सरकार द्वारा सतत् सजग एवं सतर्क रहने की सलाहों के अंतर्गत मास्क लगाने और दो गज की दूरी बनाये रखने के निर्देशों का अमल करने पर जोर अभी भी दिया जा रहा है।

विश्व जगत के प्रख्यात चिकित्सा विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना बीमारी ने सैंकड़ों बार अपने स्वरूप में परिवर्तन किया है। अतः उसके दुष्परिणामों से बचने के लिये मात्र वैक्सीन लगवा लेना ही अभी हाल में एक कारगर उपाय है। वैक्सीन, मास्क और दो हाथ की दूरी के निर्देशों को अपना कर कोरोना की भयावहता से बचा जा सकता है।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की चित्रकूट में चल रही अ.भा. प्रान्त प्रचारक बैठक में कोरोना संक्रमण की सम्भावित तीसरी लहर का सामना करने हेतु देशव्यापी ‘‘कार्यकर्ता प्रशिक्षण’’ का आयोजन करने का निर्णय लिया गया है। ये कार्यकर्ता 2.5 लाख स्थानों पर पहुंचेंगे। संघ की 21,166 शाखायें अब पुनः मैदान में प्रारम्भ हो गयी हैं।

Rss Meeting: Speculations Of Reshuffle In Ram Mandir Trust, Question-and-answer With Champat Rai - आरएसएस की राष्ट्रीय चिंतन बैठक: राम मंदिर ट्रस्ट में फेरबदल के कयास, चंपत राय से सवाल ...

संघ की अखिल भारतीय प्रान्त प्रचारक बैठक में संगठनात्मक गतिविधियों की चर्चा के साथ ही कोरोना की दूसरी लहर से उत्पन्न परिस्थितियों की व्यापक रूप से चर्चा हुयी तथा प्रान्तों में हुये सेवा कार्यों की समीक्षा की गयी। स्वयं सेवकों द्वारा संचालित वैक्सीन के टीकाकरण हेतु सुविधा केन्द्र व प्रोत्साहन के अभियानों की भी समीक्षा की गयी।

कोरोना की तीसरी लहर की सम्भावना को देखते हुये पूरे देश में शासन-प्रशासन का सहयोग एवं सम्भावित पीड़ितों की सहायता हेतु विशेष ‘‘कार्यकर्ता प्रशिक्षण’’ का आयोजन किया जायेगा। ऐसी परिस्थितियों में समाज का मनोबल बढ़ाने के लिये आवश्यक सभी जानकारी उचित समय पर लोगों तक पहुंचाने हेतु ये प्रशिक्षित कार्यकर्ता 2.5 लाख स्थानों तक पहुंचेंगे।

यह प्रशिक्षण अगस्त माह में पूर्ण किया जायेगा तथा सितम्बर से जनजागरण द्वारा हर गाँव, बाहर बस्ती में कई स्वयं सेवी संस्थाओं को इस अभियान में जोड़ा जायेगा। इस प्रशिक्षण में कोरोना से बचाव हेतु बच्चों व माताओं के लिये विशेष रूप से आवश्यक सावधानियों व उपायों को शामिल किया गया है।

जैसे-जैसे कोरोना के प्रकोप के पश्चात् स्थितियाँ सामान्य हो रही हैं, संघ शाखाओं का संचालन भी मैदान में प्रारम्भ हुआ है।

बैठक में प्राप्त जानकारी के अनुसार देश भर में वर्तमान में 39,454 शाखायें अब मैदान में लग रही हैं जिसमें 27,166 शाखायें मैदान में, 12,288 ई-शाखायें हैं। साथ ही साप्ताहिक मिलन शाखायें कुल 10,130 हैं, जिसमें प्रत्यक्ष रूप से मैदान में 6510 पुनः प्रारम्भ हुयी तथा ई-शाखायें 3620 हैं। कोरोना के लॉकडॉउन काल में विशेष रूप से देश भर में प्रारम्भ हुयी कुटुम्ब मिलन शाखाओं की संख्या 9637 हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

इधर देश के चिकित्सकों की शीर्ष संस्था इंडियन मेडिकल एसोसियेशन (आई.एम.ए.) ने केन्द्र और राज्य सरकारों से कोविड के खिलाफ जंग में कोई ढ़िलाई नहीं बरतने की अपील की है।

संस्था ने चेताया है कि कोरोना की तीसरी लहर करीब ही है। संस्था ने इस मुश्किल वक्त पर देश के विभिन्न स्थानों पर अधिकारियों और लोगों द्वारा कोरोना मामले में बरते जा रहे आत्मसंतोष पर नाराजगी और दुःख जताया है। एसोसियेशन ने गम्भीरता के साथ सुझाव देते हुये कहा है कि मेडिकल बिरादरी और राजनैतिक नेतृत्व के तमाम प्रयासों की बदौलत ही देश कोरोना महामारी की घातक दूसरी लहर के प्रभाव से उबर पाया है।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि पर्यटन धार्मिक यात्रायें और धार्मिक समारोह जरूरी तो हैं लेकिन इसके लिये बचाव के तौर पर कुछ महीने और प्रतीक्षा की जा सकती है। इन स्थलों को सार्वजनिक करना और टीकाकरण के बगैर लोगों को यहाँ बड़ी संख्या में जमावड़े से कोरोना की तीसरी लहर के फैलने का अंदेशा हो सकता है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा है कि कोरोना संक्रमण को लेकर सतर्कता आवश्यक है। दक्षिण और पूर्वेत्तर  के राज्यों में प्रकरण कम नहीं हो रहे हैं। अगस्त में प्रकरण बढ़ने का पूर्वानुमान है। प्रदेश में तीसरी लहर को बेअसर करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। जिलों के प्रभारी तथा अधिकारी सतर्कता और सक्रियता बनाये रखें। कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करने के लिये जनता को निरन्तर प्रेरित करना आवश्यक है।

लापरवाही न बरतें-

कोरोना की तीसरी लहर भारत में 4 जुलाई को ही दस्तक दे चुकी है। ऐसा दावा किया है – हैदाराबाद के विश्वविद्यालय के प्रो. वाईस चांसलर और भौतिक विज्ञानी डॉ.  विपिन श्रीवास्तव ने। उन्होंने लोगों से बचाव के नियमों का पालन करने का भी आग्रह किया है। साथ ही साथ शासन- प्रशासन को भी सावधान रहने की जरूरत बतलायी है।

लेख़क :- किशन कछवाहा

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here