सुनने के लिए क्लिक करें

आदिवासी युवतियों व महिलाओं को वाहन चलाने का प्रशिक्षण देकर बनाया जा रहा आत्मनिर्भर

आदिवासी बहुल जिले के जनजाति कल्याण केंद्र बरगांव द्वारा अभिनव पहल करते हुए क्षेत्र की आदिवासी महिलाओं सहित युवतियों को निशुल्क वाहन चलाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। स्वरोजगार से जोड़ने की पहल करते हुए जनजाति कल्याण केंद्र में विगत एक माह से यह प्रशिक्षण चल रहा है।

पहले चरण में एक सैकड़ा से अधिक महिला और युवतियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। अब तक आधा सैकड़ा से अधिक प्रशिक्षण ले रही युवतियां व महिलाएं वाहन चलाना सीख चुकी हैं। आज गुरुवार को प्रशिक्षण ले रही 33 युवतियां और महिलाएं लर्निंग लाइसेंस लेने जिला परिवहन कार्यालय डिंडौरी पहुंचेंगी।

गौरतलब है कि 5 अक्टूबर को प्रदेश की कैबिनेट मंत्री मीना सिंह ने रानी दुर्गावती प्रशिक्षण केंद्र का शुभारंभ जनजाति कल्याण केंद्र में किया था। तभी से यहां क्षेत्र की युवतियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पहल यह भी होगी कि वाहन चलाना सीख चुकी महिलाओं और युवतियों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए उन्हें लोन दिला कर वाहन उपलब्ध कराया जाएगा।

महिलाओं ने बताया कि वे आसानी से वाहन चलाना सीख रही है। गौरतलब है कि पिछड़े जिले में शामिल डिंडौरी की आदिवासी महिलाओं और युवतियों का इस तरह आगे आना बेहतर पहल मानी जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here